5.6.31 Welcome to CGNet Swara

गरीबी भाग नहीं सकती भगाऊं कैसे...कविता

ग्राम पंचायत-तोलगा, जिला-सरगुजा, छत्तीसगढ़ से दशरथ सिंह उइके एक कविता प्रस्तुत कर रहे हैं:
गरीबी भाग नहीं सकती भगाऊं कैसे
क्या हालत है इस देश की तुझे बताऊँ कैसे-
एक तरफ मोहब्बत दूसरी ओर क़ानून
एक तरफ जालिम दूसरी ओर जूनून-
लेकिन घटे जो घटना गरीबों के सर पर
सांस में आहें भर रहे अपने ही घर पर-
नैनों से टपक पड़े आंसू समझाऊं
कैसे गरीबी भाग नहीं सकती भगाऊं कैसे-
कहते हैं अध अटकी साँसों में
किसने ला इस दुर्भाग्य को गरीबी सताते हैं-
अपने ही भाग्य को स्वभाव पर बनी भाग्य को मिटाऊं कैसे-
क्या हालत बना रखी है
अपने ही जिन्दगी की-
ईश्वर से दुआ माँगते फिरते अपने ही बंदगी की-
प्रकृति की आस्था लिए
बैठे रव को सुनाऊं कैसे-
गरीबी भाग नहीं सकती भगाऊं कैसे...

Posted on: Mar 27, 2016. Tags: DASHRATH SINGH UIKEY

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »