कंदा कुसला तो भोजन लाही रे, चंपा पडिगे हे अकेल...सरगुजिहा बाल गीत-

ग्राम-भरदा, पोस्ट-कोटया, तहसील-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से रामसिंह टेकाम सरगुजिहा भाषा में एक कहानी और गीत के माध्यम से एक बच्चे की व्यथा को सुना रहे हैं :
कंदा कुसला तो भोजन लाही रे, चंपा पडिगे हे अकेल-
माता पिता अजनवईयापुर में, हंसा हर फिरथे अकेल-
फेको चला रोड वन में कारी कुवरी-
एगा रघुवर हर बीने
फिर चला रुण्ड बन में कारी कुहेर-
माता-पिता बनवास लिखेंन हो लिखीन बनकी आवहेल...
शीसा तो मुनि हर जता लोके-
कन्दा कुसला तो भोजना लागी रे चंपा पड़े है अकेल...

Posted on: Sep 30, 2018. Tags: CG CHILDREN PRATAPPUR RAMSINGH TEKAM SONG SURAJPUR SURGUJIHA

गेंद गिर गए जमुना मा, कूदो कन्हैया...बाल कविता-

ग्राम-बैजलपुर, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से पांचवी कक्षा की छात्रा इंद्रानी हरिशंकर रजक को एक बाल कविता सुना रही है :
गेंद गिर गए जमुना मा, कूदो कन्हैया-
काका मेरा गाए गेंद के खेलईया-
काकी मेरा गाए गेंद के खेलईया-
भईया मेरा गाए गेंद के खेलईया-
गेंद गिर गए जमुना मा, कूदो कन्हैया-
भाभी मेरा गाए गेंद के खेलईया...

Posted on: Sep 25, 2018. Tags: CG CHILDREN HARISHANKAR RAJAK KABIRDHAM POEM

छोटी सी मछली पानी में बिछली...बाल कविता-

ग्राम-बैजलपुर, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से हरिशंकर रजक एक छोटी से बालिका राधिका से एक बाल कविता सुन रहे हैं :
छोटी सी मछली पानी में बिछली-
पापा ने पकड़ा मम्मी ने पकाया-
मोटा भईया खाया-
मछली जल की रानी हैं, जीवन उसका पानी हैं-
हाथ लगाओ डर जाती है, बाहर निकालो मर जाती है-
आजा राजा राजा मामा लाया बाजा...

Posted on: Sep 24, 2018. Tags: CG CHILDREN HARISHANKAR RAJAK KABIRDHAM POEM

री लो यो री री लो री री लो, नीमा बागा मंदक के बाब...गोंडी छट्टी गीत

ग्राम-नाडापर्सी, तहसील-पखांजूर, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छतीसगढ़) से मानको और जन्नो एक गोंडी छट्टी गीत सुना रहे है, जो घर में बच्चा पैदा होने के छठवे दिन के कार्यक्रम में गाया जाता है, उससमय बच्चे का नामकरण भी करते हैं:
री री लोयो री री लो री री लो री लोयो रीरी लो रीरी लो-
री लो यो री री लो रीरी लो, नीमा बागा मंदक के बाबू-
बाबू रोय नीमा बागा मंदाक रोय बाबू जो जोलीग – नीमा बगा मंदाक रोय बाबू बाबू रोय नीमा बागा मंदक रोय बाबू-
जो जोलिग़ जो जोलिग़ बाबू ,पेपी नगा मंदाक रोय बाबू बाबू रोय ...

Posted on: Sep 24, 2018. Tags: CG CHILDREN GONDI KANKER PAKHANJUR RANO WADDE SONG

बस के नीचे केला, मामाजी का मेला...बाल कविता-

ग्राम-बैजलपुर, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से शंकर रजक कक्षा 3 के छात्र बिसंभर से एक बाल कविता सुना रहे हैं:
बस के नीचे केला, मामाजी का मेला-
मेला देखने जाऊंगा, अंटी को बुलाऊंगा-
ओ मेरा अंटी, बजा मेरा घंटी-
घंटी में कुछ नही मामा जी का मूंछ नही...

Posted on: Sep 24, 2018. Tags: CG CHILDREN KABIRDHAM POEM SANKAR RAJAK

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download