खेती हमर सार, बाकी दुनियादारी बेकार...छत्तीसगढ़ी भाषा में किसानी पर कविता-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक छत्तीसगढ़ी भाषा में किसानी के बारे में कविता सुना रहे हैं :
चल जाबो गा संघी खेत खार-
सोना सही धान पके हवे, ऊपर मुड़ा नाथ-
पसिया ला धर लूबो दिन भर-
करपा-करपा कर, दुई दिन सुखाबो-
पैरा डोर मा बांधाबो, बैला-भैसा गड़ी मा आनबो-
कोठार मा खरी गांजबो-
बैल ला बगराबो दाई बेलन फांदबो...

Posted on: Sep 30, 2018. Tags: AGRICULTURE CG CHHATTISGARHI KANHAIYALAL PADIYARI POEM RAIGARH

डोलत नई आय, डोलत नई आय जी...छत्तीसगढ़ी गीत-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक छत्तीसगढ़ी गीत सुना रहे हैं:
डोलत नई अय, डोलत नई आय, डोलत नई आय जी-
का होगे संगी, हवा ला डोलत नई आय जी-
का होगे संगी, डारा पाना डोलत नई आय गा-
बोलत नाइ आय, बोलत नाइ आय, बोलत नाइ आय जी-
का होगे मोर मन मंजूरी ला, बोलत नई आय जी-
जोरत रईथो, जोरत रईथो, जोरत रईथो गा...

Posted on: Sep 30, 2018. Tags: CG CHHATTISGARHI KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH SONG

रेंगे ले रेंगासी लागे, बैईठे ले बैईठासी मैना...गीत-

ग्राम-कोटया, जिला-सरगुजा (छत्तीसगढ़) से मेवालाल देवांगन एक छत्तीसगढ़ी गीत सुना रहे हैं :
रेंगे ले रेंगासी लागे, बैईठे ले बैईठासी मैना-
बईठे ले समझासी हिंगे, सुतले डसन में तोला-
सुतले डसन में मैना, करले गुनानी नीगे-
करले गुनानी-
रेंगे ले रेंगासी लागे, बईठे ले थकासी हिंगे-
हीरो छोड़ा, हीरो छोड़ी कुर्सी में बैठी नाय...

Posted on: Sep 27, 2018. Tags: CG CHHATTISGARHI MEWALAL DEWANGAN SONG SURAJPUR

मोर छत्तीसगढ़ के भुईयाँ माटी, हवे उपजाऊ गा संगी...छत्तीसगढ़ी किसानी गीत-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी छत्तीसगढ़ी भाषा में एक किसानी गीत सुना रहे हैं :
मोर छत्तीसगढ़ के भुईयाँ माटी, हवे उपजाऊ गा संगी-
सोना कसन धान उपजथे-
छत्तीसगढ़ गढिया अड़बड कमाऊ गा संगी-
नई जाने बेरा कुबेरा डरकत ले कमाथे-
आऊ खाथे चार बेरा, मोठा लुगा धोती पिंथे-
मुड़ मा टुकना बोह के ठुमुक-ठुमुक रेंगथे गा संगी...

Posted on: Sep 27, 2018. Tags: AGRICULTURE CG CHHATTISGARHI FARMING KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH SONG

तारी मोर नारी, मोर नारी ना ना रे, सुआ ना...सुगा गीत-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक छत्तीसगढ़ी सुगा गीत सुना रहे हैं :
तारी मोर नारी, मोर नारी ना ना रे, सुआ ना-
तारी नारी नारी न ना-
माटी के चोला ला माटी मा मिल जाही नारे सुआ ना-
काबर करथस गर्व गुमान-
पिंधे धोती लुगरा ला रे छोड़ी के जाबे, छुट ले परान-
ना रे सुआ ना छुट ले परान...

Posted on: Sep 27, 2018. Tags: CG CHHATTISGARHI KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH SONG SUGA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download