मोर शिवा गुरु आ जाना मोर मन के मंदिर में...भजन-

ग्राम-सुरसा जिराक, थाना-चलगली, पोस्ट-काला बरती, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से चंदरसाय आयाम एक शिव चर्चा भजन सुना रहे हैं :
जंगल खोजो झाड़ी खोजों, खोज के हैरान होगे हो-
मोर शिवा गुरु आ जाना मोर मन के मंदिर में-
जंगल खोजो झाड़ी खोजों, खोज के हैरान होगे हो-
मोर मईया भवानी आ जाना मन के मंदिर में...

Posted on: Apr 03, 2019. Tags: BALRAMPUR CG CHANDARSAI AYAM SONG

काबे मजुरावे वाता रे, कोन मजुलिहा ले बसेंड मजुरावे वाता ओ...सरगुजिया गीत-

परसापारा, ग्राम-ओदारी, पोस्ट-काला बरती, तहसील-वाड्रफनगर, थाना-चलगली, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से चंदरसाय सरगुजिया भाषा में एक गीत सुना रहे हैं :
काबे मजुरावे वाता रे, कोन मजुलिहा ले बसेंड-
मजुरावे वाता ओ-
यें माजुरावें वांता रे, कोन मजुलिहा ले बसेंड-
जब तोरे हे कोन मजुलिया ले बसें,
मजुरावें वत्ता रे सलिया में लिहा ले बसेंड...

Posted on: Sep 14, 2018. Tags: BALRAMPUR CG CHANDARSAI SONG SURGUJIHA WADRAFNAGAR

कावन लगावे माता अमरौ अमेली दाई आमा दो अमेली रे...सेवा गीत-

ग्राम पंचायत- भगवानपुर, पोस्ट-कालाबरती, थाना-चलगली, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से चंदरसाय एक सेवा गीत सुना रहे हैं :
कावन लगावे माता अमरौ अमेली दाई, आमा दो अमेली रे-
कावन लगावे घाने बास हो माई-
मोर सेवा लेले मईया, कावन लगावे धने बांस हो माई-
राजा लगावे माता अमरौ अमेली दाई, आमा दो अमेली रे-
रानी लगावे माता घने बांस हो माई-
मोर सेवा ले ले माता रानी लगावे माता घने बांस हो माई...

Posted on: Aug 22, 2018. Tags: BALRAMPUR CHANDARSAI CHHATTISGARH SONG SURGUJIHA

हायरे गा मोहन मोर दगाबाज रसिया रे...कर्मा गीत-

जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से चंदरसाय एक कर्मा गीत सुना रहें हैं:
हायरे गा मोहन मोर दगा बाज रसिया रे-
मोहन मोर दगा बाज रसिया ल हो-
कोने बनावे बांस के बासुरीया रे-
कोने बनावे सोहनईया मोहन दगा बाज रसिया ल हो-
रसिया बनावे बांस के बसुरिया रे, सोनार बनावे सोहनईया हो...

Posted on: Jul 23, 2018. Tags: CHANDARSAI SURAJPUR KARMA SONG

कभी राती के तो देखो ना तोरे सुरतिया...नागपुरी गीत

पारसापारा, ग्राम-ओदारी, तहसील-वाड्रफनगर, पोस्ट-कालाबरती, थाना-चलगली,
जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से चंदरसाय एक नागपुरी गीत सुना रहे हैं :
कभी राती के तो देखो ना तोरे सुरतिया-
दिने का डूईब गेले चांदो-
डूब के पूछो न गोटे डहर खोजो ना-
कहा गे तो चईल गेले चांदो-
तीन महीना बीतल, बीतल छव माह-
अब तो रे चांदो रहलो नी जाये...

Posted on: Jun 30, 2018. Tags: CHANDARSAI BALRAMPUR

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download