हमर गांव के जनता ला, देख कैसे भरमावत हे...एक छत्तीसगढी गीत

हमर गांव के जनता ला, देख कैसे भरमावत हे
दुइ रूपया में चाउर देवत हे, फोकट मा नून
अउ जुरमिल मोर्चा इ कहत हे ध्यान लगाके सुन

बडे बडे मशीन आगे, जनता ला हो गे घाटा
अउ खाए पीए के ठिकाना नइ ए, चाउर दार आटा

रोजगार गारंटी में नथी रहोगे तो कैसे कमाबो रे भाई
अउ समय में मज़दूरी न मिले कैसे जीबो ओ दाई

बुधन मेश्राम

Posted on: Dec 05, 2010. Tags: Budhan Meshram