तोर प्यार में आइझो जाइग जाओना...नागपुरी भाषा में कविता -

बीरेंद्र कुमार महतो रांची (झारखण्ड) से आदिवासी नागपुरी भाषा में एक कविता सुना रहे हैं :
तोर प्यार में आइझो जाइग जाओना-
जब मुड से मना तरे भिटाये जायेला तोर-
तोर पहिल प्यार के निशानी-
कांडी हुआ ठन जायेके ताजारोका होए जायेला-
जब पानी के परछाई में दिखे लागेला तोर सुन्दर प्यारा मुखड़ा-
इह तनघूमना-फिरना सलय-सलय हवा बयार बहे-
लुकि-छुपि तोके ये कनखी न दे मारि-
वन बहार तोमरी दिन तपनपतई बहना आयीके भेटाई जायेला-
तोर सुन्दर घुँघरू पायल सोहना सोचि-सोचि-
हिलोरे मारेला धरि-धरि हिलोर-
पहिल भोह भिटाये रही तोहेटोहे उस धन बनाये हो-
आपन अशयाना छोड़ यही सोचि कि-
एक न एक दिन भिटाये न हा पिनन लोहत बछरा...

Posted on: Jun 06, 2016. Tags: Biirendra Mahto

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download