महुआ रे महुआ सुबह पतई झर गेले...महुआ गीत

आश्रित ग्राम -मनातु, ग्राम-पंचायत-बमदा, प्रखंड-चैनपुर, जिला-गुमला (झारखंड) से हेमा और बुधमनिया उराव आदिवासियों की भाषा में एक महुआ गीत सुना रहे है:
महुआ रे महुआ सुबह पतई झर गेले
डैन्ड़ो उपर पतरो नइयों पतनो उपर फूला रे-
फूला गिरे डारा आधा राति सो मन-
फूला डोरी रे डोरी तो फोरी जोरे तहा-
डैन्ड़ो उपर पतरो नइयों पतनो उपर फूला रे-
महुआ रे महुआ सुबह पतई झर गेले...

Posted on: Jul 07, 2018. Tags: BUDHMANIYA HEMA SONG