5.6.31 Welcome to CGNet Swara

आजीविका योजना में स्वंय सहायता समूह बनाकर सरकार ग्रामीणों को गाँव में ही रोज़गार दिला रही है...

ग्राम सोंडवा, तहसील सोंडवा, जिला अलीराजपुर मध्यप्रदेश से भुवान सिंह चोंगड़ के साथ आज उपस्थित है आजीविका परियोजना के अंतर्गत स्वंय सहायता समूह बनाने वाले कार्यकर्त्ता राजेश भावर जो बता रहे हैं कि यह एक आदिवासी अति पिछड़ा पहाड़ी और जंगली इलाका है जहां से अधिकतर लोगों को काम की तलाश में बाहर पलायन करना पड़ता है इसलिए सरकार ने आजीविका योजना शुरू किया है । वे बता रहे हैं कि इस योजना में वे ग्रामीण पिछड़े इलाके के लोगो के लिए अनेक प्रकार के योजनायें से लाभ पहुचाते है जैसे मुर्गीपालन, मछलीपालन, तथा नई तकनिकी से खेती करना कामों की व्यवस्था कराते है जिससे गाँव की महिलाएं गाँव में ही आजीविका कमा सके । भुवान@9522336913

Posted on: Dec 23, 2016. Tags: BHUWAN SINGH CHOUNGAD

अपना और परिवार का पेट पालने के लिए बिहार के महानंद राजस्थान में शहद निकालते और बेचते हैं...

पेट पालने के लिए लोग तरह-तरह के काम करते हैं और दूर दूर जाते हैं बता रहे हैं ग्राम सोंडवा जिला अलीराजपुर मध्यप्रदेश से भुवान सिंह चोन्गड़ जिनके साथ आज उपस्थित है महानंद शहदवाले जो बिहार के रहने वाले है और वह बता रहे है कि वे एक भूमिहीन व्यक्ति हैं और उनको कोई सरकारी योजना का लाभ नही मिला । वे अत्यंत गरीब परिवार से है जो इस स्थिति में अपने भरण-पोषण के लिए जंगलों में पेड़-पहाड़ो से शहद एकत्रित कर विक्रय करते है जो उनके परिवार का जीवन-यापन करने का आधार है शहद एकत्रित करने के लिए अलग-अलग प्रदेशों में जाते है और रस्सी के सहारे पेड़ में चढ़कर अपने औजारों के साथ शहद निकालते हैं । उनके साथ उनका परिवार भी इस काम में मदद करता है । भुवन@9111229443

Posted on: Dec 18, 2016. Tags: BHUWAN SINGH CHOUNGAD

आलीराजपुर मध्यप्रदेश से भीली आदिवासी गीत...

भुवान सिंह चोंगड़ इस वक्त ग्राम ओझड़, पोस्ट ओझड़, जिला अलीराजपुर मध्यप्रदेश में हैं जहां उनकी मुलाक़ात भोदो भाई से हुई है जो लोकगायक) है जो एक भीली आदिवासी गीत गीत सुना रहे हैं...

Posted on: Dec 17, 2016. Tags: BHUWAN SINGH CHOUNGAD

आपका स्वास्थ्य आपके मोबाइल में: मिर्गी रोग के बारे में भील आदिवासी ज्ञान

ग्राम भेड़िया, तहसील सोंधवा, जिला अलीराजपुर (मध्यप्रदेश) से भुवान सिंह चोंगड़ के साथ उपस्थित है भील आदिवासी वैद्य भूरला भाई जो मिर्गी की बीमारी के बारे में बता रहे हैं । वे कहते हैं लाल कांदा अर्थात् प्याज दो किलो ले ले और उसे पीस लें और प्रतिदिन तीन खुराक लेवे सुबह, दोपहर तथा शाम इससे मिर्गी की बीमारी में शीघ्र लाभ मिलता है | वे आगे बता रहे हैं कि सुवर तथा खरगोश का खून पीने से भी मिर्गी की बीमारी में आराम मिलता है | भूरला भाई गाँव के वैद्य हैं और वे यह दावा करते हैं कि इस तरह से उन्होंने कई लोगों को इस रोग से मुक्ति दिलाई है । स्वास्थ्य स्वर इस जानकारी के बारे में कोई राय नहीं रखता है । आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप भुवान जी से 9753250250 पर संपर्क कर सकते हैं ।

Posted on: Dec 07, 2016. Tags: BHUWAN SINGH CHOUNGAD

"संविधान की धारा 244(1) को विलोपित कर कंपनियाँ और सरकार आदिवासी जमीने हड़प रही है"...

ग्राम बेहड़वा, जिला अलीराजपुर मध्यप्रदेश से भुवन सिंह चौन्गड़ आदिवासी एकता परिषद के नेता शंकर भाई तडावा से संविधान में आदिवासीयो को दिए गए विशेष अधिकारों के क्षरण के बारे में बातचीत कर रहे हैं । वे बता रहे हैं कि आदिवासियों के लिए संविधान में कई विशेष अधिकार दिए गए है जैसे आदिवासियों की शिक्षा हेतु धारा 46 का सृजन किया गाया है और उनके प्राण के रक्षा के लिए 21 धारा बनायी गयी है और आदिवासियों के स्वप्रशासन के लिए धारा 244(1) का सृजन किया गया है लेकिन अभी धारा 244 (1) है उसको विलोपित कर सरकारे और कंपनिया आदिवासीयो की जमीन को अपना बना रही है जिनके खिलाफ लड़ने की ज़रुरत है भुवनसिंह चौन्गड़@9424063107

Posted on: Dec 03, 2016. Tags: BHUWAN SINGH CHOUNGAD

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download