वनांचल स्वर : खाज-खुजली का घरेलू उपचार-

ग्राम-घोंघा, थाना-बोडला, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से वैद्य भगतराम लांझी खाज-खुजली, दाद और छोटे बच्चो के शरीर में होने वाले फुंसी का घरेलू उपचार बता रहे हैं, तालाब या नदियों में पाई जाने वाली सूतई जिसे सूती भी कहते हैं, उसका रंग अंदर से सफेद और बहार से काई की तरह होता है, उसको अच्छी तरह आग में जला लें उसके बाद पाउडर बनाकर कपडे से छानकर घाव में लगा सकते हैं, इसके अलावा यदि घाव सूखा है, फटी एड़ियाँ है तो पाउडर को अलसी के तेल में मिलाकर लगाना होता है, मुह में झांई या काला धब्बा हो तो दिन में दो से तीन बार उस जगह पर पाउडर की तरह लगा सकते है, इस तरह प्रयोग करने से लाभ मिल सकता है :
संपर्क नंबर@7389964276.

Posted on: Jul 29, 2018. Tags: BHAGATRAM LANHJI HEALTH VANANCHAL SWARA