छु कर पढ़े खिताबें देखो दृष्टिहीन उन्नति करते...गीत

सुरेन्द्र पाल, तहसील-मरेरू, जिला-बांदा उत्तरप्रदेश से सीजी नेट के श्रोताओं को गीत सुना रहे हैं:
छु कर पढ़े खिताबें देखो दृष्टिहीन उन्नति करते पढ़ लिखकर आगे बढ़ते-
छु कर पढ़े खिताबें देखो दृष्टिहीन उन्नति करते पढ़ लिखकर आगे बढ़ते-
अठारह सनों मे जनवरी चार खाँस के कुकरे गाँव मे जार – जावड़ इददुम दिल आऊ तयार साइमन बेल पिता लगते पढ़

लिखकर आगे बढ़ते-छु कर पढ़े खिताबें देखो
दृष्टिहीन उन्नति करते पढ़ लिखकर आगे बढ़ते-
अठारह साल में दृष्टि गवाई पढ़ लिख ऐसी लिपि बनाई छः अक्षर भाई-
लिखने में उलटी चलते पढ़ लिखकर आगे बढ़ते...
@8736053567.

Posted on: Jan 25, 2022. Tags: BANDAUP MARERU SONG SURENDRA PAL

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा...आरती-

ग्राम-मवई, जिला-बाँदा (उत्तरप्रदेश) से सुरेंद्रपाल एक गणेश आरती सुना रहे हैं:
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा-
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा-
एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी-
माथे पर तिलक सोहे मूसे की सवारी-
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा...(AR)

Posted on: Apr 21, 2021. Tags: BANDA BHAKTI SONG SURENDRA PAL UP

चलगा साक्षरता अभियाने वा हम तो पाड़ी वे...साक्षरता गीत-

ग्राम-मवई,जिला-बाँदा,राज्य-उत्तरप्रदेश से सुरेन्द्र पाल साक्षरता गीत सुना रहे है:
चलगा साक्षरता अभियाने वा हम तो पाड़ी वे-
हम तो पाड़ी वे हैं भैया हम तो पाड़ी वे-
चलगा साक्षरता अभियाने वा हम तो पाड़ी वे-
गाँव गाँव में साक्षर सैनिक कालेज रहे लगाए-
चना बाजरा और का सहारा गिनती रहे पढाई-
चलगा साक्षरता अभियाने वा हम तो पाड़ी वे...ID (182752)

Posted on: Mar 16, 2021. Tags: BANDA HINDI SONG SURENDRA PAL UP

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गये...कविता

बंदा (उत्तर प्रदेश) से सूरज एक कविता सुना रहे हैं:
नानी तेरी मोरनी को मोर ले गये-
बाकी जो बचा था काले चोर ले गये-
खाके पीके मोटे होके, चोर बैठे रेल में
चोरो वाला डिब्बा कट कर पहुँचा सीधे जेल में-
उन चोरों की खूब खबर ली, मोटे थानेदार ने-
मोरो को भी खूब नचाया, जंगल की सरकार ने-
अच्छी नानी प्यारी नानी, रूसा-रूसी छोड़ दे-
जल्दी से एक पैसा दे दे, तू कंजूसी छोड़ दे... (AR)

Posted on: Mar 01, 2021. Tags: BANDA POEM SURAJ UP

सूरज की पहली किरण से आशा का सबेरा जागे...गीत-

जिला-बाँदा (उत्तरप्रदेश) से सूरज कुमार एक गीत सुना रहे हैं:
आ चल के तुझे मै लेके चलूं-
इक ऐसे गगन की तले-
जहाँ गम भी न हो आंसू भी न हो-
बस प्यार ही प्यार पले-
सूरज की पहली किरण से-
आशा का सबेरा जागे-
चंदा की किरण से धुल कर घनी घोर अँधेरा भागे...(AR)

Posted on: Mar 01, 2021. Tags: BANDA SONG SURAJ KUMAR UP

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download