कावन लगावे माता अमरौ अमेली दाई आमा दो अमेली रे...सेवा गीत-

ग्राम पंचायत- भगवानपुर, पोस्ट-कालाबरती, थाना-चलगली, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से चंदरसाय एक सेवा गीत सुना रहे हैं :
कावन लगावे माता अमरौ अमेली दाई, आमा दो अमेली रे-
कावन लगावे घाने बास हो माई-
मोर सेवा लेले मईया, कावन लगावे धने बांस हो माई-
राजा लगावे माता अमरौ अमेली दाई, आमा दो अमेली रे-
रानी लगावे माता घने बांस हो माई-
मोर सेवा ले ले माता रानी लगावे माता घने बांस हो माई...

Posted on: Aug 22, 2018. Tags: BALRAMPUR CHANDARSAI CHHATTISGARH SONG SURGUJIHA

भईया हो ले जाना, ले जाना संदेस, जउन देश मा बोले जाथे सब एक समान...गीत-

ग्राम पंचायत-कोटराही, पोस्ट, तहसील-वाड्रफनगर, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से अमर कुमार पोर्ते सरकारी योजना में असमानता को बताते हुए एक गीत सुना रहे हैं :
भईया हो ले जाना, ले जाना संदेस-
जउन देश मा बोले जाथे सब एक समान-
ओही देश के सुन ले जुबान-
ग्राम पंचायत लेबे भईया मिली एक लाख बीस हजार-
नगर पालिका रहबे भईया मिली ढाई लाख-
ईंटा मिलही चार रूपया, छड मिलही चवन रूपया...

Posted on: Aug 21, 2018. Tags: AMAR KUMAR PARTE BALRAMPUR CHHATTISGARH CHHATTISGARHI SONG

रब को याद करोगे, सीजीनेट में बात करोगे...सीजीनेट गीत-

ग्राम पंचायत-कोटराही, ब्लाक-वाड्रफनगर, थाना-बसंतपुर, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से देवनारायण मरकाम एक सीजीनेट गीत सुना रहे हैं:
रब को याद करोगे सीजीनेट में बात करोगे-
बिछड़ा याद करोगे ओ सीजीनेट रिकार्ड करोगे-
जब से हुई ये सीजीनेट में रिकार्ड करोगे-
रब को याद करोगे सीजीनेट में बात करोगे-
बिछड़ा याद करोगे ओ सीजीनेट रिकार्ड करोगे-
जब से हुई ये सीजीनेट में रिकार्ड करोगे...

Posted on: Aug 20, 2018. Tags: BALRAMPUR CHHATTISGARH DEVNARAYN MARKAM SONG

पीपल की ऊँची डाली पर बेठी चिड़िया गाती है...बाल कविता

ग्राम-मेंढारी, पोस्ट-करमडीहा, तहसील-वाड्रफनगर, थाना-बसंतपुर, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से अंजनी नेटी एक कविता सुना रही है:
पीपल कि ऊँची डाली पर बेठी चिड़िया गाती है-
तुम्हे याद अपनी बोली में क्या सन्देश सुनाती है-
चिड़िया बेठी प्रेम प्रीत की रीत हमें सिखलाती है-
वह जग के बंधी मानव को मुक्त मन्त्र बतलाती है-
सब मिल जुलकर रहते है वे सब मिल झूल कर खाते है-
आसमान ही उनका घर है जहाँ चाहते जाते है-
रहते जहाँ वही अपना घर बसाते है...

Posted on: Aug 16, 2018. Tags: ANJNI NETI BALRAMPUR CHHATTISGARH HINDI POEM

हम जैसा व्यवहार करते है आगे हमें वैसा ही मिलता है...कहानी-

एक बार की बात है मोहन की मम्मी उसकी दादी माँ को मिट्टी के बर्तन में खाना दे रही थी, जिसे मोहन कई दिनो से देख रहा था, एक दिन उसने अपने दादी माँ से पूछा मेरी माँ आपको मिट्टी के बर्तन में खाना क्यों देती है, दादी ने जवाब दिया बेटा मै बूढी हो गई हूँ इसलिए, जिस पर बच्चे ने कहा, दादी माँ कल आप खाना हांथ में लेके छोड़ देना, फिर मै आपको डाटूंगा, आप बुरा मत मानना, अगले दिन दादी ऐसा ही करती है, जिस पर बच्चे ने दादी को डांटते हुए कहा आप मिट्टी के बर्तन को तोड़ दिए, अब मै बुढ़ापे में अपने मम्मी-पापा को खाना किसमे दूंगा, सारी बात बच्चे की माँ सुन रही थी, इससे सीख मिलती है हम जैसा व्यवहार करेंगे हमें भी वैसा ही व्यवहार मिलेगा|

Posted on: Aug 07, 2018. Tags: BALRAMPUR CHHATTISGARH STORY VIJAY MARAVI

View Older Reports »