मैं बंदत हौं दिन-रात ओ मोर धरती मइया जय होवै तोर....माटी वंदना

ब्लॉक-नवागढ़, जिला-बेमेतरा, छत्तीसगढ़ से बड़कू साहू मिट्टी वंदना प्रस्तुत कर रहे हैं:
मैं बंदत हौं दिन-रात ओ मोर धरती मइया जय होवै तोर-
मोर छुइयां-भुइयां जय होवै तोर-
सूत-उठके बड़े बिहनियां तोरे पइयां लागौं-
सुरुज ज्योंत मा करों आरती गंगा पाँव पखारौं-
फिर काया फूल चढ़ावऊँ ओ मोर धरती मइया जय होवै तोर-
तोर कोरां सब जीव जंतु के घर-दुआर औ डेरा-
तहीं हमन के सुख-दुःख औ ये जिनगी के घेरा-
तोर मयों मैं जग दुलरावों ओ मोर धरती मइया जय होवै तोर-
राजा-परजा देवी-देवता तोर कोरां मा आएन-
जइसन सेवा करिन तोर ला तइसन फल ला पाएन-
तोर बलिहारी मैं जावऊँ ओ मोर धरती मइया जय होवै तोर...

Posted on: Nov 18, 2015. Tags: BADKU SAHU