शाधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोईरागी...बंगाली गीत

श्यामनगर कोलकाता से आकांक्षा ठाकुर एक बांग्ला प्रचलित लोकगीत सुना रही हैं जो लौकी पर आधारित है:
शाधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोईरागी-
लाउयेर आगा खईलम डोगागो खाईलाम-
लाऊ दिए बानाईलम डूगडूगी-
सदरम बनईले मोरे रागी-
लाउयेर एतो मोधू जानिगो जाधू-
शाधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोईरागी...

Posted on: Jul 23, 2016. Tags: Akanksha Thakur

साधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोइरागी...बांग्ला लोकगीत

कोलकाता से आकांक्षा ठाकुर एक बंगाली लोकगीत प्रस्तुत कर रही हैं-गीत के माध्यम से बताया जा रहा है कि लाऊ(लौकी) बंगाल में बहुत प्रसिद्ध है जब इसे गलाया जाता है तो इसकी महक किसी को भी वैरागी बना सकती है :
साधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोइरागी
लावैर आगा खाइलाम डोगा गो खाइलाम
लाऊ दिए बानाईलाम डूग-डूगी रे
साधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोइरागी
लावै ऐतो मोधू, जानी गो जादू
ऐतो मोधू ओ ओ ओ
लाऊ हो लो सोंगी रे सोंगी
साधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोइरागी
आमि गोया गेलाम, काशी गो गेलाम
गोया गेलाम गो ओ ओ ओ
सोंगे नाई मोर बैश्नबी
हाय रे, सोंगे नहीं मोरे बैश्नबी
साधेर लाऊ बानाईलो मोरे बोइरागी

Posted on: Oct 18, 2014. Tags: Akanksha Thakur

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download