साथियो नाचेंगे गायेंगे झूमेंगे बजायेंगे हम...एक गीत

साथियो नाचेंगे गायेंगे झूमेंगे बजायेंगे हम
आज यह उत्सव आ गया ....
अच्छा ठिठोली गुदगुदी किलकारी करे हम
आज यह उत्सव आ गया ....
गीत के ताल में साथियो नाचो रे गाओ रे झूमो रे
एक ही तो है हम एक ही तो है
खुद के मालिक भी धरती के मालिक भी
हम ही तो है हम ही तो है हम ही तो है
बारिश में भीगते हम ही तो है
धूप में जलते हम ही तो है
आंधियो में गर्मियों में सर्दियों में हम ही तो है
झाडी को काट कूटकर खेत बना देते है
खेतो में हल चलाकर बीज उगा देते है
चाहे रुपाई हो चाहे निंदाई हो हम ही तो है

Posted on: Jan 30, 2014. Tags: Ajit Odisha