स्वास्थ्य स्वर: मलेरिया का जडी बूटी से इलाज ( गोंडी)

ग्राम -लंजोड़ा, जिला – कोंडागांव छत्तीसगढ़ से राजू राणा हैं उसके साथ सीजीनेट कार्यशाला में भंडारर्सैनी गाँव के किसान आचमन मंडावी जुड़े हैं जो उन्हें गोंडी भाषा में मलेरिया बीमारी के बारे में बता रहे हैं | वे जड़ी बूटी से मलेरिया कि बीमारी को इलाज करते हैं उसे तुलसी अंदरक मिर्ची मिलाकर पीस कर दवाई बनता हैं वे गाँव के कई लोगो को इलाज किया हैं |

Posted on: May 22, 2018. Tags: Aachaman MANDAVI