ज्योत से ज्योत जगाते चलो...संघटन गीत

ग्राम-ताराडांड, पोस्ट-जमुड़ी, जिला-अनुपपुर (मध्यप्रदेश) से अर्चना सिंह नेटी एक संघटन गीत सुना रही है:
ज्योत से ज्योत जगाते चलो-
प्रेम की गंगा बहाते चलो-
राह में आए जो दीन दुखी-
सबको गले से लगाते चलो-
जिसका ना कोई संगी साथी-
ईश्वर है रखवाला जो निर्धन है-
जो निर्बल है वह ही प्रभु का प्यारा-
आशा टूटी ममता रूठी छूट गया है किनारा-
बंद करो माँ द्वार दया का-
दे दो कुछ तो सहारा-
दीप दया का जलाते चलो-
प्रेम की गंगा बहाते चलो...

Posted on: Jun 23, 2018. Tags: ARCHNA SINGH NETI

धनि नाचे पुनि नाचे औ नाचे, पोये पातल मिर्चा मूंगा भाट्टा...गीत -

ग्राम-मयाना, थाना-चारामा, जिला-कांकेर (छत्तीसगढ़) अर्चना नेताम के साथ में देवात्री बाई एक गीत सुना रही है:
धनि नाचे पुनि नाचे औ नाचे-
पोये पातल मिर्चा मूंगा भाट्टा-
बने-बने रहो समे खाता-
पातल मिर्चा मूंगा भाट्टा-
अंडा के घर बनाया हूँ-
पतसा के गुड़ी पातळ मिर्चा मूंगा भाट्टा...

Posted on: Jan 10, 2018. Tags: ARCHNA NETAM