सोहर गीत : जचा रानी ने जाये अनोखा सुन्दर लल्लना...

ग्राम-छुलकारी, पोस्ट-फुनगा, जिला-अनुपपुर (मध्यप्रदेश) से श्रीमती मंदाकनी मिश्रा एक सोहर गीत सुना रहें है:
जचा रानी ने जाये अनोखा सुन्दर लल्लना-
सासु जो आयें पिपरी पिसन को-
उन्होनें मांगी बिंदी हमनें सुनी मेहँदी-
लेके आना साजन रचानें वाली मेहँदी-
जचा रानी ने जाये अनोखा सुन्दर लल्लना...

Posted on: Nov 10, 2019. Tags: ANUPPUR CG MANDAKNI MISHARA SONG

सड़क नहीं होने से बारिश में आवागवन बाधित होता है...मदद की अपील-

ग्राम-रोदीटोला, पंचायत-मोहंदी, पोस्ट-खाटी, थाना-अमरकंटक, तहसील-पुष्पराजगढ़, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से अशोक बता रहा है रोड़ की समस्या. बारिश में समय आने जाने में बहुत ही दिक्कत होती, बताया जा रहा है अधिक्तर प्रतिदिन स्कूली बच्चों कई तरह के तकलीफें झेल कर स्कूल जाना पड़ रहा है. ख़राब सड़क की दुरी लगभग 4 किलोमीटर बताया जा रहा है. इस विषय पर सीजीनेट स्वर सुनने वाले साथियों से मदद करने की अनुरोध कर रहे है की दिए गये फ़ोन नंबर पर अधिकारीयों से बात मदद करने में सहयोग करे. सरपंच@7066862483. सचिव@9303768271.

Posted on: Nov 02, 2019. Tags: ASHOK ANUPPUR CG PROBLEM

कविता : भारत माता का सपूत, आजादी का दीवाना...

ग्राम-रक्शा, पोस्ट-शोंगा, थाना_भालू माडा, जिला अनुपपुर (मध्यप्रदेश) से दिव्या जोगी भगत सिंह कविका सुना रही है:
भारत माता का सपूत, आजादी का दीवाना-
हंसकर झूल गया फांसी पर, भगत सिंह मस्ताना था-
नौजवान था वह पंजाबी, गजब शेर के दिलवाला-
देश प्रेम का रस पीकर वह बना हुआ था मतवाला-
दिन में चैन, नींद रात में, उसको कभी नही आती-
भारत माता की परवशता अति बैचैन बना जाती-
हंसकर झूल गया फांसी पर, भगत सिंह मस्ताना था...

Posted on: Oct 30, 2019. Tags: ANUPPUR CG DIVYA JOGI SONG

भजन : तार पापी हजार, तार पापी हजार, आपन नाम लगाईं के-

ग्राम-छुलकारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक भजन सुना रहा है:
तार पापी हजार, तार पापी हजार-
आपन नाम लगाईं के-
सुवा पढ़ावत गढ़ का तर गये-
राम-नाम के नाम मिचड़ गये-
हो गई सागर पर, हो गई सागर पार-
आपन नाम लगाईं के-
पाँव धोईके केवट तर गये-
गंगा जी पार उतर गये-
तार परिवार, तार परिवार-
तार पापी हजार, तार पापी हजार-
आपन नाम लगाईं के...

Posted on: Sep 23, 2019. Tags: ANUPPUR CG LALLU KEWAT

प्रेणना लोकगीत : ऐसा जमाना आया यार है, बिना पढ़े से सब बेकार है..

ग्राम-छुलकारी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से लल्लू केवट एक प्रेणना लोकगीत सुना रहे है:
ऐसा जमाना आया यार है-
बिना पढ़े से सब बेकार है-
अनपढ़ का इज्जत नही होता है-
आगे चल कर वह प्रतिदिन रोता है-
दिनों-दिनों बढ़ता परिवार है-
जब कोई लेटर घर में आता है-
पड़ोसी के घर में ले के जाता है-
क्योकि पढने से वह लाचार है-
बिना बढे से सब बेकार है...

Posted on: Sep 21, 2019. Tags: ANUPPUR CG LALLU KEWAT

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download