मधु बन खुशबु देता है,सागर सावन देता है -गीत सुना रही है...

दिल्ली से दिव्यांसी गीत सुना रही है – मधु बन खुशबु देता है – सागर सावन देता है – जीना उसका जीना है – जो औरो को जीवन देता है – मधु बन खुशबु देता है – सूरज बन न पाये तो – बनके दीपक जलता चल – फूल खिले या अंगारे – सच की राहो पे चलता चल – प्यार दिलो को देता है – अश्को को दामन देता है -170791…JP

Posted on: Jul 06, 2020. Tags: DELHI DIVYAANSHU SONG

मज़दूर हैं पर कोई काम नहीं मिल रहा है, 6 लोगों का परिवार कैसे चलाएं, कृपया मदद दिलाइये...

ग्राम-कजरा, पोस्ट-मंझौली, ब्लाक-वजीरगंज, जिला-गया (बिहार) से अंशु कुमार बता रहे है कि लॉकडाउन में खाने पीने की तकलीफ हो रहा है ,राशन कार्ड भी नहीं है,पापा जी बहुत सीरियस रहते है,  रोजगार नहीं है  6 लोगों का परिवार चलाना पड़ता है ,मजदुर आदमी है कितना चला पायेंगे उनका कहना है कि सरकार से कुछ मदद चाहिए | वे इसलिए सीजीनेट सुनने वाले साथियों से अपील कर रहे है कि सम्बंधित अधिकारियों से बात करके समस्या हल करने में मदद करें :संपर्क नंबर@6385510913.  (169531)  NM

Posted on: Jun 10, 2020. Tags: ANSHU CORONA PROBLEM FOOD GAYA BIHAR KUMAR WORK

मोदी जी हजार पानसौवा...भोजपुरी गीत

ग्राम-झुलरिया, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) हिमांसु कुमार यादव एक भोजपुरी गीत सुना रहे हैं :
मोदी जी हजार पानसौवा-
के बंद कैले नोट ओ-
बोरा में जेबी भर के रख ले-
रोवथे लोट पोट हो...

Posted on: Feb 26, 2019. Tags: HIMANSHU KUMAR YADAV

मुर्गा बोला कुकड़ू कूं...बाल गीत -

एक नन्हे साथी दिव्यांशु सिंह एक बाल कविता सुना रहे हैं :
मुर्गा बोला कुकड़ू कूं-
सुबह हो गई अब सोते क्यों-
देर तलक जो सोता है वह तो बुद्धू होता है-
मुन्ना बोला नही नही-
मई हूँ बुद्धू नही नही रोज मई स्कूल जाता हूँ-
अच्छा मुन्ना कहलाता हूँ...

Posted on: Oct 15, 2017. Tags: DIWYANSHU SINGH

लोग सम्मान देते हैं पर अगले चुनाव में किसी और को मौक़ा देना चाहती हूँ: आदिवासी महिला सरपंच -

ग्राम-मेटापाल, जिला-दन्तेवाडा (छत्तीसगढ़) से सीजीनेट जनपत्रकारिता यात्रा के दौरान शुभ्रांशु चौधरी गाँव के सरपंच रत्ना कुरियाम से चर्चा कर रहे हैं ये बता रही हैं विगत 4 साल से इस गाँव के सरपंच हैं इनके गाँव में रोड नही है पुलिया नही है बच्चों को स्कूल जाने के दिक्कते होती है पंचायत में गाँव दूर दूर हैं जहां से लोगों को रोड न होने से आने जाने में दिक्कत होती है. इनका कहना है ये दंतेवाड़ा अधिक नही जा पाती इस कारण से अधिकारियों से बात भी नही हो पाती और नेटवर्क भी नही रहता, अभी भी गाँव में ये समस्या बनी हुई है इन पर अपने बच्चो की जिम्मेदारी होने के कारण ये अगले वर्ष चुनाव नही लड़ना चाहती है ये अपने गाँव का विकास और बदलाव देखना चाहती हैं...

Posted on: Oct 15, 2017. Tags: SHUBHRANSHU CHOUDHARY

View Older Reports »