5.6.31 Welcome to CGNet Swara

धन्य हो प्रभु मेरा जीवन जब मैंने तुझे पाया...प्रार्थना गीत

ग्राम-कुर्केल, पंचायत-रामपुर, ब्लाक-चैनपुर, जिल-गुमला (झारखंड) से स्मिता बैक, अस्मिता एक्का और सुनीता मिंज एक गीत सुना रहे है:
धन्य हो प्रभु मेरा जीवन जब मैंने तुझे पाया-
आपने पावन दान से तूने भर दिया मेरा जीवन-
भूखो को तूने रोटी खिलाकर अम्रता का पान कराया-
आपने पावन दान से तूने भर दिया मेरा जीवन-
प्यासों को तुमने पानी पीलाकर नव जीवन संसार कराया-
धन्य हो प्रभु मेरा जीवन जब मैंने तुझे पाया...

Posted on: Jul 13, 2018. Tags: ASMITA EKKA KUSAMITA BEK SONG SUNITA MINZ

चलना चलगा किसान आगे आसाढ, बोये ला जाबो धान...छत्तीसगढ़ी गीत

भोरमदेव अनांचल, विकासखंड-बोडला, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़ी) से अमित साहू एक छत्तीसगढ़ी गीत सुना रहे हैं:
चलना चलगा किसान आगे आसाढ बोये ला जाबो धान-
नागर कुदारी बेला संग मा लेके जाबो बीच धार-
झूल मिल के कमाबो संगी हो धरती दाई के सेवा ला बजाबो-
खेत के मेडे पर ले सुघर फालतू कचरा ला बगराबो-
धान के थर्हा डोली में देबो काबर बोबो चारा-
चलना चलगा किशान आगे आसाड बोये ला जाबो धान...

Posted on: Jul 03, 2018. Tags: AMIT

ओह रे नागपुरी अरे एका तरका दर इंदेर गे रज सुना ना...कुडुक भाषा में देशभक्ति गीत

ग्राम-कटकाही, प्रखण्ड-चैनपुर, जिला-गुमला (झारखण्ड) से समीता नगेसिया उराव आदिवासियों की कुडुक भाषा में एक देश भक्ति गीत सुना रही हैं :
ओह रे नागपुरी अरे एका तरका दर इंदेर गे रज सुना ना-
दर हो इंदेर गे रज सुना ना-
किराबरा किराबरा रे, बाय रो एह रे नागा पुरी-
कहां कहां परे, तै चोंगो रे चरिया नामन मेका लगी बय-
मनमा सा करेना-
कहां कहां करे, ता टोंगो रे झरिया नामन मेका लगे...

Posted on: Jul 01, 2018. Tags: SAMITA NAGESIYA

चले चलगा किसान आगे आषाढ़ बोयेला धान जाबो...छत्तीसगढ़ी किसान गीत-

भोरमदेव वनांचल, विकासखण्ड-बोड़ला, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से अमित साहू एक छत्तीसगढ़ी किसान गीत सुना रहे हैं:
चले चलगा किसान आगे आषाढ़ बोयेला धान जाबो-
नागर बईला सारी संग मा बीज घलो धर के जाबो-
जुर मिल कमाबो रे संगी मोर, धरती के सेवा में लग जाबो-
कांटा खूटी ला बिनबो हमन हां, बेड़े पार ला सुग्घर सुधारबो-
धने के थरहा लगाए के करहो तैयारी, गोबर खाद बिछाबो खेत में-
चले चल गा किसान आगे आषाढ़ बोये ला धान जाबो...

Posted on: Jun 21, 2018. Tags: AMIT SAHU

स्वास्थ्य स्वर: अमरबेल से खुजली का उपचार -

भोरमदेव वनांचल, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से वैद्य अमित साहू आज हम लोगो को शरीर मेंखुजली की समस्या का एक घरेलू उपचार बता रहे है, सामग्री : अमरबेल, आमतौर पर कहीं भी पाई जाती है जो पेड़ के ऊपर बेल की तरह छाई रहती है, पीले रंग की होती है कही भी मिल जाती है, उसको पत्थर से बारीक़ पीस ले, उसके बाद जहा पर खुजली होती है उस स्थान पर लेप करे, तीन दिनों तक लगातार लेप करने से पुराने से पुराना खुजली से आराम मिलता है. परहेज साबुन, तेल, का इस्तेमाल न करे, तथा गर्म भोजन का प्रयोग ना करे. अधिक जानकारी के लिए संपर्क करे. अमित साहू@8964931287.

Posted on: Jun 12, 2018. Tags: AMIT SAHU

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »