आगरे का ताजमहल दिल्ली का किला...बघेलखंडी बन्ना गीत

ग्राम नुनारी, पोस्ट-दोंदला,ब्लॉक-जवा,जिला रीवा (म.प्र.) से विनीता के साथ अकलेश जी हैं जो एक बन्ना गीत सुना रहे हैं :
आगरे का ताजमहल दिल्ली का किला-
बन्नी जी का बन्ना मुझे होटल में मिला-
गेंदी-गेंदी क्या करती हो नतनी ला दूंगा-
मैं हूँ हिन्दुस्तान का लड़का मेम बना दूंगा-
आगरे का ताजमहल...
झुमका-झुमका क्या करती हो कुंडल ला दूंगा-
मैं हूँ हिन्दुस्तान का लड़का मेम बना दूंगा-
आगरे का ताजमहल...
चूड़ी-चूड़ी क्या करती हो घड़ियाँ ला दूंगा-
मैं हूँ हिन्दुस्तान का लड़का मेम बना दूंगा-
आगरे का ताजमहल...
लाकिट-लाकिट क्या करती हो मंगल ला दूंगा-
मैं हूँ हिन्दुस्तान का लड़का मेम बना दूंगा-
आगरे का ताजमहल...
पायल-पायल क्या करती चागल ला दूंगा-
मैं हूँ हिन्दुस्तान का लड़का मेम बना दूंगा-
आगरे का ताजमहल...
मुंदरी-मुंदरी क्या करती हो बिछिया ला दूंगा – मैं हूँ हिन्दुस्तान का लड़का मेम बना दूंगा-
आगरे का ताजमहल...

Posted on: Jun 10, 2015. Tags: AKLESH REWA