लॉकडाउन में फंसे है, परिवार में 5 लोग है, उनके पास राशन नहीं है सब भूखे रह रहे है, मदद की अपील...

शीतल अनिल गायकवाड बता रही है कि वे लातूर के रहने वाले है, अभी वे खांडवे नगर पुणे में रहते है | लॉकडाउन में फंसे है, परिवार में 5 लोग है | उनके पास राशन नहीं है सब भूखे रह रहे है | इसलिए साथी सीजीनेट सुनने वाले साथियों से मदद की अपील कर रहे है कि सम्बंधित नम्बरों बात करके राशन दिलवाने में मदद करें : संपर्क नम्बर@7499081254. (168859) DW

Posted on: May 30, 2020. Tags: CORONA PROBLEM PUNE MH SHEETAL ANIL GAGYAKVAD

पिचकारी मुरारी मारो न...होली गीत-

जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से आज्ञा सिंह यादव एक होली गीत सुना रही हैं:
पिचकारी मुरारी मारय न-
पिचकारी मुरारी मारय न-
पहिला पिचकारी मोरे माथे मा मारय-
माथे का शान बिगाड़ो न-
पिचकारी मुरारी मारो न-
मेरी बिंदिया के शान बिगाड़ो न-
पिचकारी मुरारी मारो न...

Posted on: Mar 12, 2020. Tags: AGYA SINGH MP REWA SONG

बाल अधिकार पर जानकारी...

रीवा (मध्यप्रदेश) से आज्ञा बाल अधिकार के बारे में बता रही हैं, जो 18 वर्ष से कम उम्र के हैं सभी बच्चे की श्रेणी में आते हैं, ये परिभाषा बच्चों के अधिकारों और संयुक्त राष्ट्र संघ के समझौता UNCRE के तहत बताई गयी है, भारत में 1992 को इस समझौता पर हस्ताक्षरित की गयी है इसलिये लोगों को वोट देने, ड्रॉइविंग लाइसेंस को किसी क़ानूनी समझौते पर हस्ताक्षर करना जरुरी है, कम से कम 18 वर्ष होना चाहिये, बाल-विवाह नियोजक कानून 1929 के तहत 18 वर्ष से कम उम्र की लड़की और 21 वर्ष से कम उम्र के लड़का के शादी पर रोक है। भारत में और भी कानून है सभी की अलग-अलग परिभाषा है किसी का 18 वर्ष से कम उम्र का शादी हुई और बच्चा भी हुआ तो वह बच्चा ही कहलायेगा। बचपन एक ऐसी अवस्था जिससे सभी लोग गुजरते हैं इस दौरान सभी का अनुभव अलग-अलग होता है। बच्चों को हर तरह के अत्याचार व शोषण से बचाया जाना चाहिये, बच्चों को खास ज्ञान दिया जाना चाहिए क्यों कि जिन स्थितियों में बच्चे रहते हैं वयस्कों की तुलना में उनका शोषण होने की संभावाना ज़्यादा होती है इसलिये सरकार के काम का असर बच्चों पर पड़ता है अक्सर यही माना जाता है उनके सोचने समझने की क्षमता कम होती है इसलिये उनका निर्णय अधिकतर बड़े ही लेते हैं : आज्ञा@9752437223.

Posted on: Feb 09, 2020. Tags: AGYA INFORMATION MP REWA

दस्त होने के कारण और बचाव के तरीके...

जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से आज्ञा दस्त लगने से होने वाले नुकसान के बारे में बता रही हैं दस्त लगने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है, बच्चा कुपोषण का शिकार हो जाता है, इससे हर वर्ष दस लाख से ज्यादा बच्चो की जान जाती है, इस स्थिती में बड़ो की तुलना में बच्चो के मरने का खतरा ज्यादा रहता है, दस्त मुह के रास्ते से जाने वाले किटाणू से फैलता है, सफाई न रखने, साफ भोजन, पानी नहीं होने से दस्त होती है, इसलिये दस्त होने पर तरल पदार्थ का सेवन ज्यादा करना चाहिये और चिकित्सक से सलाह लेना चाहिये संबंधित जानकारी के लिये संपर्क कर सकते हैं : संपर्क नंबर@9179241525.

Posted on: Jan 22, 2020. Tags: AGYA HEALTH MP REWA