5.6.31 Welcome to CGNet Swara

सिली लिली, सिली लिली बंसीला बजाये...भजन गीत

जिला-दंतेवाडा (छत्तीसगढ़) से सीता रानी नेटी एक भजन गीत सुना रही है:
सिली लिली, सिली लिली बंसीला बजाये-
वृदावन में कान्हा गयाला चराये-
सखी मन सांगे शिकरी ला जोराए के-
राधा रानी कर्मा नाचे कन्हैया ला हिलाये के-
हाय रे रामा हाय रे कृष्णा हिन्ताश देवा-
पलनामा शुगर झुला झूले यशोदा मैया तोरे ललना-
सिली लिली, सिली लिली बंसीला बजाये...

Posted on: Oct 21, 2017. Tags: SEETA RANI NETI

एक साल पहले मेरा टूटा घर बनवाने में मदद का कागज़ मिला है पर काम अब तक नहीं शुरू हुआ...

कोसापारा ग्राम-बालूद, जिला-दन्तेवाडा (छतीसगढ़) से बुमडा गावड़े बता रहे हैं ये एक टूटे हुए घर में रहते हैं, इंदिरा आवास योजना के अंतर्गत इनको आवास मिलना था इसका पत्र भी इन्हें मिल चुका हैं लेकिन एक साल बीत चुके है इस पर कोई काम नही हुआ सरपंच सचिव से बात करने पर कहते है हो जायेगा लेकिन अभी तक कुछ भी काम नही हुआ है ये परेशान हैं इन्हें केवल एक कागज दे दिया गया है है और गुमराह किया जा रहा है इसलिए साथी सीजीनेट के साथियों से अपील कर रहे हैं कि दिए गए नबर पर बात कर दबाव बनाये जिससे आवास की समस्या का समाधान हो सके: सरपंच@9407759457, CEO@9669577888, कलेक्टर@9179530000. बुमडा गावड़े@7587836397.

Posted on: Oct 21, 2017. Tags: DANTEWADA BABULAL NETI

आपका स्वास्थ्य आपके मोबाइल में : जड़ी से हड्डी जोड़ने का उपाय -

ग्राम-बालुद, जिला-दंतेवाडा (छत्तीसगढ़) से सीजीनेट जन पत्रकारिता यात्रा के साथी रूपलाल मरावी गाँव के साथी अनिल कुमार भास्कर से बात कर रहे हैं. उनके पास एक जड़ी है उसके बारे में वे उन्हें बता रहे है कि इस का उपयोग जब मनुष्य या जानवर का पैर टूट जाता है तब काम आता है इस जड़ी को गोंडी भाषा में उटगोला कहते है | उस जड़ी को कुचलकर उसका रस निकालकर नमक डालकर पैर में बांधना है | बाँधने के दो तीन दिन में उसका पट्टी अपने आप चिपक जाता है और जैसे ही घाव ठीक होने लगता है तो वो पट्टी भी अपने आप निकल जाता है | इससे हड्डी मजबूत भी होती है | गाँव के आदिवासी लोग सदियों से हड्डी टूटने पर इस जड़ी के उपयोग से ठीक होते हैं | रूपलाल मरावी@7354620356

Posted on: Oct 21, 2017. Tags: RUPLAL MARAVI DANTEWADA

हमारे गाँव के वार्ड क्रमांक 1 में एक भी हैंडपंप नहीं है 10 परिवार नदी-नाले का गंदा पानी पीते हैं...

ग्राम-बालुद, जिला-दंतेवाडा, (छत्तीसगढ़) से धनसाय मरावी साथ में गाँव के साथी पनेश कुमार गावडे, सुरेश कुमार भास्कर, वीरू सोडी, सीताराम बता रहे है कि बालुद गाँव के वार्ड क्रमांक 1 में एक भी बोरिंग नहीं लगाया गया है और ये लोग नदी नाले का पानी पीते है | इनके लिए इन्होने कई बार पंचायत में शिकायत भी किये तो हाँ हो जायेगा बोलते है लेकिन अभी तक नहीं हुआ है और यहाँ पर 10 घर की बस्ती है | तो इनकी मांग है कि इनके वार्ड में बोरिंग लगवाई जाये | इसलिए साथी सीजीनेट सुनने वाले साथियों से मदद की अपील कर रहे है कि इन अधिकारियो को फोन कर दबाव बनाये ताकि इनके गाँव में बोरिंग लग सके: कलेक्टर@9179530000, P.H.E. विभाग@9406469505. धनसाय@7354620356.

Posted on: Oct 21, 2017. Tags: DHANSAI MARAVI DANTEWADA

आदिवासी गाँव की कहानी: खेत से सालभर का भोजन नहीं होता, दुकान से 50रू दिन कमाता हूँ...

सीजीनेट जन पत्रकारिता यात्रा आज ग्राम पंचायत-बालूद, कोसापारा जिला-दन्तेवाडा (छतीसगढ़) में पहुँची है वहां बाबूलाल नेटी गाँव के निवासी भुमडा गावड़े के सांथ में बात कर रहे हैं ये अपने जीवनशैली के बारे में बता रहे हैं कि वे एक गरीब परिवार से है उम्र 35 वर्ष है, उनके घर में सात सदस्य हैं जिसमे दादी,चार बच्चे, एक बहन और स्वयं शामिल हैं. ये एक टूटे हुवे घर में रहते हैं, अपने जीवन यापन के लिए एक दुकान चलाते है जिसमे लगभग 50 रूपए प्रति दिन कमाते है साथ ही खेती भी खेती करते हैं जिसमे डेढ़ क्विंटल की फसल उगाते है जिससे साल भर का भोजन नहीं हो पाता। बच्चे सरकारी हॉस्टल में रहकर पढ़ रहे हैं पर उनके लिए पैसे जुटाना अक्सर मुश्किल हो जाता है. भुमडा गावड़े@7587836397.

Posted on: Oct 21, 2017. Tags: BABULAL NETI

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download