हठ कर बैठा चाँद एक दिन, माता से यह बोला...कविता-

जिला-भादोरी, उत्तर प्रदेश से पुष्पराज मौर्य एक कविता सुना रहे हैं:
हठ कर बैठा चाँद एक दिन, माता से यह बोला-
सिलवा दो माँ मुझे ऊन का मोटा एक झिंगोला-
सन-सन चलती हवा रात भर जाड़े से मरता हूँ-
ठिठुर-ठिठुर कर किसी तरह यात्रा पूरी करता हूँ-
आसमान का सफ़र और यह मौसम है जाड़े का-
न हो अगर तो ला दो कुर्ता ही कोई भाड़े का...

Posted on: Jul 07, 2021. Tags: BHADORI POEM PUSHPRAJ MAURYA UP

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download