भोली सुरतिया मा नैना मा झूले रे...छत्तीसगढ़ी गीत

संपतलाल यादव ग्राम-डोटमा, ब्लाक-जयजयपुर, जिला-जांजगीर चापा से एक छत्तीसगढ़ी गीत सुना रहें है:
भोली सुरतिया मा नैना मा झूले रे-
देखत रहिथो तोरे सपना कब आबे मोरे अंगना-
चाँदी के मुंदरी अढाई सोला वो-
दर्स्ते ठाके गमगम ताना मोला वो-
बांधे है मया के डोर बांधे रहबे मया के बंधना-
भोली सुरतिया मा नैना मा झूले रे...

Posted on: Nov 21, 2020. Tags: CG SONG