सूरज सा चमकूँ मैं चंदा सा चमकूँ मैं...कविता-

ग्राम-पीरमेटा, पंचायत-तुरंगुर, ब्लाक-बास्तानार, जिला-बस्तर छत्तीसगढ़ से बाबुलाल के साथ कक्षा 5 वी का छात्र नागेश मण्डावी एक कविता सुना रहे है:
सूरज सा चमकूँ मैं चंदा सा चमकूँ मैं-
जगमग-जगमग उज्जवल तारो सा चमकूँ मैं-
मेरी अभिलाषा है फूलो से महकूँ मैं...

Posted on: Aug 02, 2020. Tags: POEM