मै पतझड़ की एक काली, तुम चाहो तो खिल जाऊं...कविता-

महकापाल, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) से पूनम और कुमे एक कविता सुना रहे हैं:
मै पतझड़ की एक काली, तुम चाहो तो खिल जाऊं-
पर एसी मेरी चाह नहीं, माली में घुस जाऊं-
एक यही अभिलाषा मै सबको गले लगाऊं-
इन नन्ही नन्ही कलियों संग मै झूम झूम कर गाऊं-
उठ निकल प्यार की बाधा पर सुंदर राग सुनाऊं-
मै पतझड़ की एक काली, तुम चाहो तो खिल जाऊं-
पर एसी मेरी चाह नहीं, माली में घुस जाऊं...

Posted on: Jan 06, 2020. Tags: BASTAR BUDHMAN SINGH CG POEM

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download