गुलाब खिली खिली मैं तोड़ सकूँ कैसे...गीत-

ग्राम-पूसागांव, जिला-नारायणपुर (छत्तीसगढ़) से हितेश्वरी और मनबत्ती एक गीत सुना रहे है:
गुलाब खिली खिली मैं तोड़ सकूँ कैसे-
हाथों में लगी मेहंदी मै काम करुँ कैसे-
पैर में लगी पट्टा मै चल सकूँ कैसे-
आंखो में लगी काजल मै देख सकूँ कैसे...

Posted on: Jan 22, 2020. Tags: CG HARINAM MARKO NARAYANPUR SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download