गजल : चिठ्ठी न कोई सन्देश, जाने ओ कौन सा देश...

ग्राम-तालदेवरी, तहसील-सारंगगढ़, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़ ) से कुशकुमार एक गजल सुना रहा हैं:
चिठ्ठी न कोई सन्देश, जाने ओ कौन सा देश-
जहाँ तुम चले गये-
इस दिल पे लगा के ठेस, जाने ओ कौन सा देश-
जहाँ तुम चले गये-
एक आह भरी होगी, हमने न सुनी होगी-
जाते-जाते तुमने, आवाज तो दी होगी-
हर वक्त यही है गम, उस वक्त कंहा थे हम-
जहाँ तुम चले गये-
चिठ्ठी न कोई सन्देश, जाने ओ कौन सा देश-
जहाँ तुम चले गये-
अब यादों के आतेकांटे, इस दिल में रहते हैं-
न दर्द ठहरता है, न आंसू चुभते है-
तुम्हे ढूढ़ रहा है प्यार, हम कैसे करे इकरार-
जहाँ तुम चले गये-
चिठ्ठी न कोई सन्देश, जाने ओ कौन सा देश-
जहाँ तुम चले गये-

Posted on: Oct 11, 2019. Tags: KUSH KUMAR RAIGADH CG SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download