मेरे मामाजी के गाँव में, छोटी सी बिलैया रे...कविता-

गीदम, जिला-दंतेवाडा, दक्षिण बस्तर (छत्तीसगढ़) से अनामिका कश्यप, समीरा और ओमेश्वरी कश्यप एक कविता सुना रहे हैं :
मेरे मामाजी के गाँव में, छोटी सी बिलैया रे-
मोटी सी बिलैया रे-
चुपके-चुपके आती है, सारा दूध पी जाती है-
चाटे वो मलैया रे-
चार छोटे-छोटे पाँव उसके, छोटी सी पुछैया रे-
मेरे मामाजी के गाँव में, छोटी सी बिलैया रे...

Posted on: Nov 11, 2019. Tags: BHOLA BAGHEL CG DANTEWADA POEM

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download