लहरों ने लूट लिया हमारे आन बान...कविता-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक कविता सुना रहे हैं :
लहरों ने लूट लिया हमारे आन बान-
लहरों ने ही लूट लिया हमारे ऊँची शान-
लहरों ने ही लूट लिया हमारे अमूल्य जान-
कहीं अति कहीं सूखा, कहीं असमान खुला-खुला-
कही जल मग्न हो, लोगों को यह खा भूखा-
जूझ रहे कुदरत के कहर, गरीब अमीर बुद्धि जीवी भी...

Posted on: Aug 09, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI POEM RAIGARH

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download