झुला रहे, झुला रहे, मोरी मैया के दुई लाल...भजन गीत-

जबलपुर (मध्यप्रदेश) राजकुमार काछी के साथी राम कावडे के साथ एक भजन गीत सुना रहे हैं :
झुला रहे, झुला रहे, मोरी मैया के दुई लाल-
झूला झुला रहे माँ-
कोन बन तोरे झूला डरे हैं-
काहे के तोरे झूला बनो है-
काहे के लागे डोर,झूला झुला रहे माँ-
कजनी बन तोरे झुला डरे हैं-
चंदन के तोरे झूला बनो है, रेशम लगे डोर...

Posted on: Jun 11, 2019. Tags: JABALPUR MP RAJKUMAR KACHHI SONG

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download