दांत टूटने के बाद फिर नया आता है, वैसे ही चाँद नया आ गया है...कहानी-

अकबर के पास एक नातिन थी| वो उन्हें नाना कहकर पुकारती थी| वह बच्चों की तरह मजाक करते थे | उन्हें बहुत पसंद करते थे| उन्हें अपने कमरे में ही ठहराते थे| एक बार उनकी नातिन ने उनसे जिद करके कहा मुझे चाँद चाहिए| मुझे लाकर दो, अकबर में सभी मजदुर, और दरबारियों को बुलाया | वो रोते हुए चाँद मांग रही थी| अकबर घबराये हुए थे | यह प्रस्ताव वह सभी के सामने रखे| किसी ने कहा चाँद तो आसमान में है कहाँ से लाकर दें| फिर अकबर बीरबाल के तरफ देखा| फिर बीरबल ने नातिन से पूछा चाँद कैसा होता है ? नातिन अपने हाथ पर एक गोला बनाकार कहा चांद ऐसा होता है| तो बीरबाल ने एक चांदी का सिक्का जिसका रूपये लिखा हुआ को मिटाकर लाकर दिया| नातिन खुश हुई| शाम को अकबर घबराए हुए टहल रहे थे | बीरबल के पास गये| अकबर ने बोला नातिन ये चाँद देखकर ये तो न कहे की आपने हमें झूट कहा है| बीरबल ने कहा उसके पूछने के पहले ही हम उसे पूछते हैं| बीरबल ने उसे गोद में उठाकर पूछा हमने तो तुम्हे चाँद दिया था| ये दुसरा चाँद कहाँ से आ गया | नातिन ने कहा जैसे हमारे दांत टूटने के बाद फिर नया आता है | वैसे ही चाँद नया आ गया है| सभी ने खुश हुए|

Posted on: May 31, 2019. Tags: HARIYANA SONU GUPTA STORY

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download