अजब खेल है मेरे देश का, दलाली करने वाला इंसाफ पता है...कविता-

कानपुर (उत्तर प्रदेश) से के एम भाई आज की परिस्थिति के बारे में एक कविता के माध्यम से बता रहे हैं :
अजब खेल है मेरे देश का-
दलाली करने वाला इंसाफ पता है-
न्याय की गुहार करने वाला बेमौत मारा जाता है-
काला कोट आडर-आडर करता हैं-
और अपराधी बेकसूर हो जाता है...

Posted on: Apr 28, 2019. Tags: KANPUR KM BHAI POEM UP

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download