ये धरती हिंदुस्तान की, यह धरती है न मेरी है...कविता-

ग्राम-कुम्हारी, पंचायत-भैसागाँव, विकासखण्ड-अंतागढ़, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से दिव्यंका पांडे, पूजा पोटाई और माही जैन एक कविता सुना रहे हैं :
ये धरती हिंदुस्तान की, यह धरती है न मेरी है-
ये देश किसी के शान की-
खेत में इसके उगे सच्चाई, प्यार भरा खलिहानों में-
बाग मे खुशबू उड़े अमन की-
दिया जले तुफानो में...

Posted on: Apr 20, 2019. Tags: ANTAGARH CG KANHAIYALAL KEWAT KANKER POEM

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download