मछली जल कि रानी है, जीवन उसका पानी है...कविता-

बास्तानार ब्लाक बस्तर राज्य छत्तीसगढ़ से बोमडा मंडावी जी कि बेटी रोशनी कुमारी मंडावी कविता सुना रही है:
मछली जल कि रानी है-
जीवन उसका पानी है-
हाथ लगाओ तो डर जाती है-
पानी से बाहर निकालो तो मर जाती है...

Posted on: Aug 09, 2020. Tags: POEM

2018 का तेंदुपता तोड़ाई का पैसा नही मिला, शिकायत करने पर अधिकारी ध्यान देते है...

ग्राम पंचायत-कुकरी बहरा, जनपद पंचायत-पोड़ी उपरोड़ा, जिला-कोरबा (छत्तीसगढ़) से पतराज मरकाम और उनके साथ है ग्राम वासी शंकर सिंह और बुधराम बता रहे है सन 2018 तेंदुपता तोड़े है जिसे पैसा नही मिला है बताया जा रहा है शंकर सिंह 1580 तथा बुधराम 3900 गड्डी थे जिसका पैसा नही मिला है इस विषय में मुंशी तथा प्रबंध को किया गया है परन्तु किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नही किये मुंशी तथा प्रबंध एक दुसरें को आरोप लगा रहें है और इसके अलावा बताते है हो सकता है किसी दुसरें के खाते में चला गया है होगा बोलते है ग्रामवासियों का मानना है यह पैसा दिलाया जाय इसलिए सीजीनेट सुनने साथियों से अनुरोध कर रहें है दिए गये फ़ोन नंबर से बात कर तेंदुपता का पैसा दिलाने में सहयोग करें. मुंशी@8305528304. प्रबंध@7067531090. संपर्क राजू सिंह@9301963887.

Posted on: Aug 09, 2020. Tags: STORY

मछेरी गना रे... कर्मा गीत-

बैकुंठपुर, जिला-कोरिया (छत्तीसगढ़) से सोनी एक कर्मा गीत सुना रही हैं:
मछेदी गना सेरी-
मछेरी गना सर मचिहा-
मछेरी गना रे-
दे खुची बनसी ला-
दे तो भुजी बनसी ला... (AR)

Posted on: Aug 09, 2020. Tags: HINDI SONG

विश्व आदिवासी दिवस 9 अगस्त को क्यों मनाया जाता है, उसके बारे में जानकरी...

ग्राम-कुरुबंजारी, जिला-रायपुर छत्तीसगढ़ से भान साहू के साथ योगेन्द्र कुमार कुमार धुर्वे विश्व आदिवासी के दिवस के बारे में बता है कि हर साल 9 अगस्त आदिवासियों के बहुत ही खास दिन होता है | क्योंकि इस दिन विश्व आदिवासी दिवस के रूप में मनाया जाता है | आदिवासी दिवस को 9 अगस्त को मनाया जाने का फैसला 9 अगस्त 1982 को सयुंक्त राष्ट्र संघ में बैठक लिया गया जो हमारे आदिवासी समाज के लिए बहुत अच्छा सन्देश है और हम लोग एक पर्व के रूप में मना रहे है | 9 अगस्त हमारे लिए खुशहाली का दिन है और पहली बार 9 अगस्त 1995 को विश्व आदिवासी दिवस मनाया गया वहीँ से आदिवासी दिवस मनाना शुरू हुआ | ये हम आदिवासी समाज के लिए बहुत अच्छा सन्देश है |

Posted on: Aug 09, 2020. Tags: STORY

कितना सुंदर हमर माँ मोके बड़े प्यार करेला...भोजपुरी गीत-

सन्नू कुमार नेटी ग्राम-मेंडारी पोस्ट थाना-बसंतपुर जिला-बलरामपुर राज्य छत्तीसगढ़ से माँ की ममता को बयां करते हुए एक गीत सुना रहे है :
कितना सुंदर हमर माँ-
मोके बड़े प्यार करेला-
तोही मके जन्म दे ले-
तोही मके पोसाले पाल ले-
कितरो सुंदर हमर माँ-
मोके बड़े प्यार करेला-
बोले के निजान्त रह्व बोले के सिखा ले-
चलेत निपात रह्व चलेत सिखा ले-
बाबूजी कर संगे-संगे-
कितना सुंदर हमर माँ-
मोके बड़े प्यार करेला...

Posted on: Aug 09, 2020. Tags: HINDI SONG

« View Newer Reports

View Older Reports »